Adhbhut (Remarkable)

सोचो कितना अद्भूत होगा, अपना मिलना इस धरती पर?इंद्रधनुष दो करेंगे स्वागत, और उस दिन होगी बारिश लगातार की कल्पना मैंने उस दिन की, जब होंगे, हम दोनों एक साथजगमग होगा आलम भी, जैसे कई जुगनू हो आस पासखूब धड़केगा दिल भी अपना, और मुस्कान रहेगी चेहरे परचिल्लाकर, दिल बोलेगा हमसे, जा इतिहास बना ले…

Read more

Pratiksha (Wait)

उनकी प्रतिदिन करी प्रतीक्षा मैं प्रतिदिन हुई निराशमेरे धैर्य की परीक्षा तनिक लंबी सी हो गयी। Unki Pratidin Kari Pratiksha Main Pratidin Hui NirashMere Dhairya Ki Pariksha Tanik Lambi Si Ho Gayi.Every day I waited for himEvery day I was disappointed The test of my patience elongated a little further.

Read more

Dastak (Knock)

ना सीखी थी कोई भाषा तुम्हारे शहर की मैंने  ना पहचान थी तुम्हारे गलियों की मुझे कोई  फिर भी, दिल को तुम्हारे दस्तक मैंने आकर दे दिया। Na Sikhi Thi Koi Bhasha Tumhare Shaher Ki Maine Na Pahchaan Thi Tumhare Galiyon Ki Mujhe Koi Phir Bhi Dil Ko Tumhare Dastak Maine Aakar De Diya. Neither…

Read more