Maarg (Path)

दिखा सभी को मार्ग प्रभु जो भी रास्ते से भटक गया कृपा करी जिस पर भी तुमने वह जीवन में संभल गया। Dikha Sabhi Ko Maarg Prabhu Jo Bhi Raaste Se Bhatak GayaKripa Kari Jis Par Bhi Tumne Wah Jivan Mein Sambhal Gaya.  Whosoever has deviated, show them the right path, dear GodThey handle well their…

Read more

Kashish (Attraction)

इक क़शिश दिल में मीठी सी ये जो आग सी उठी है क्या नाम इसको दूं ग़र इश्क़ ये नही है? Ek Kashish Dil Mein Meethi Si Ye Jo Aag Si Uthi Hai Kya Naam Isko Dun  Gar Ishq Ye Nahi Hai The arousal of this attraction in my heart like a fire  What name…

Read more

Ahankaar (Egotism)

मैख़ाने के पैमाने में, आज सभी को मापूँगा मैं, कौन सही है कौन ग़लत है, इसका निर्णय करूँगा मैं।इक चला था पीकर मै, उसने की फिर मैं की बात, मैख़ाने की भीड़ ने की फ़िर, थोड़ी थोड़ी मैं की बात।सबको लगता सही हूँ मैं, सबको चढ़ता नहीं हूँ मैं मै को पीकर अच्छे अच्छे, बोलेंगे बस मैं…

Read more

Dhun (Tune)

करते नहीं हैं आजकल मेरा ज़िक्र ज़्यादा शायद गुनगुना रहें हैं, आपकोई और ही धुन को।  Karte Nahin Hain Aajkal Mera Zikr Ziyaada  Shayad Gunguna Rahe Hain, Aap Koi Aur Hi Dhun Ko You don’t mention me much these daysLeading me to believe, maybeYou are humming a different tune these days.

Read more

Prem (Love)

ना कृष्ण रहे, ना राधा अब ना मीरा की, वो गाथा सबकैसी व्यस्त सी दुनिया दिखती है अमर प्रेम की बातें, अब तो बेईमानी सी लगती है। Na Krishn Rahe Na Radha Ab Na Meera Ki Wo Gatha SabKaisi Wyast Si Duniya Dikhti Hai Amar Prem Ki Baaten Ab To Baimaani Si Lagti Hain Neither Lord Krishna…

Read more

Madira (Ale)

जब गले के नीचे जाती है तब, मदिरा तू मंडराती क्यूँ है? चंचल इतनी क्यूँ है, मदिरा, तू क्यूँ इतना इतराती है?देखा मैंने स्वभाव है तेरा, तू सबका मन मोह लेती है।तू कौन सा तंत्र करती है ऐसा? जो सबको वश में कर लेती है।  Jab Gale Ke Neeche Jaati Hai, TabMadira Tu Mandraati Kyun Hai?Chanchal…

Read more

Bhinn (Different)

भिन्न भिन्न आकार हैं सबके, भिन्न भिन्न आकृति है भिन्न भिन्न इंसान यहाँ पर, भिन्न इनकी प्रकृति है।भिन्न भिन्न समस्या सबकी, भिन्न भिन्न निवारण है भिन्न भिन्न बीमारी सबकी, भिन्न भिन्न उपचरण हैं।भिन्न भिन्न है सपने सबके, भिन्न भिन्न संयोग हैं भिन्न भिन्न हैं कार्य सभी के, भिन्न सबके तरीक़े हैं।भिन्न है भाषा भिन्न है बोली, भिन्न ही…

Read more

Prithak (Shattered)

चुप हूँ मैं अभी तो, यूँ ही चुपचाप रहने दोबात ग़र किए तो, पृथक हृदय मिलेंगे। Chup Hun Main Abhi To, Yun Hi Chup-chaap Rehne Do Baat Gar Kiye To,  Prithak Hriday Milenge Let my silence remain as it doesFor if I speak, it will shatter many hearts.

Read more

Lakiren(Wrinkles)

ये जो मुरझायी सी लकीरें हैं उन पर ना जाइए यहाँ कई अनगिनत कहानियों के राज़ दफ़न हैं। Ye Jo Murjhaayi Si Lakiren Hain Un Par Na JaiyeYahan Kai Anginat Kahaniyon Ke Raaz Dafan Hain Do not go by the withering of my skin Many secrets are buried underneath them.

Read more

Gahrayi (Deep)

गहराई तो थी, उनकी आँखों में बेशकमुझे ही डूबना, बस उनमें नहीं था।   Gahrayi To Thi, Unki Aankhon Mein BeshaqMujhe Hi Dubna, Bus Unmein Nahin Tha. Undoubtedly her eyes were deepBut I was not in the mood to dive in.

Read more