Nishaan (Scar)

कैसे चोटें लगी, यूँ बदन पर तुम्हारे? यूँ कैसे निशाँ, पड़ गए इतने सारे? रखते तो थे, इंसानों से ताल्लुक़  क्या जानवर भी थे, घर में तुम्हारे? Kaise Choten Lagi, Yun Badan Par Tumhare? Yun Kaise Nishan, Padd Gaye Itne Saare? Rakhte To The, Insaanon Se Talluq Kya Jaanwar Bhi The, Ghar Mein Tumhare?  How did…

Read more

Toota Hua (Broken)

तोड़ा था मेरे दिल कोजब अपनी गली में तुमने टूटा हुआ वह दिल, कमबख़्तअब भी वहीं पड़ा है। Todda Tha Mere Dil Ko Jab Apni Gali Mein Tumne Toota Hua Wah Dil, Kambakht Ab Bhi Wahin Pada Hai. When you crushed my heart in your street, long agoThat broken heart of mine still belongs there.

Read more

Seekh (Lesson)

कौन है गोरा कौन है काला? कौन फ़क़ीर है कौन रईस? यहाँ सभी लगे हैं एक पंक्ति में जैसे माँग रहें हो भीख  मैख़ाने के दरवाज़े पर तुम्हें मिलेगी अच्छी सीख।  Koun Hai Gora, Koun Hai Kala? Koun Faqir Hai Koun Raies? Yahan Sabhi Lage Hain Ek Pankti MeinJaise Mang Rahen Ho Bheek Maikhaane Ke…

Read more

Prakriti (Nature)

सुंदरता देख प्रकृति की मन मश्तिक मेरा शांत हो गया कुछ रहा ना अब तो कहने को इतना पावन हृदय हो गया। Sundarta Dekh Prakriti Ki Man Mashtik Mera Shaant Ho Gaya Kuch Raha Na Ab To Kahne Ko Itna Paawan Hriday Ho Gaya.  Seeing the beauty of nature brings a sense of calmMy heart has…

Read more

Maarg (Path)

दिखा सभी को मार्ग प्रभु जो भी रास्ते से भटक गया कृपा करी जिस पर भी तुमने वह जीवन में संभल गया। Dikha Sabhi Ko Maarg Prabhu Jo Bhi Raaste Se Bhatak GayaKripa Kari Jis Par Bhi Tumne Wah Jivan Mein Sambhal Gaya.  Whosoever has deviated, show them the right path, dear GodThey handle well their…

Read more

Sainik (Soldier)

हे सैनिक, तू निडर है कितना? साहस लाया कहाँ से इतना? खड़ा है डटकर सीमा पर तू चाहे बारिश आए या तूफ़ाँ।कोमल हृदय भी निष्ठुर भी तू ऐसा भी है वैसा भी तू गाने गाता प्रेम भरे तूफिर मारे गोली गिने बिना तू।कौन सी ऐसी जपी है माला? कौन सी खायी है खुराक?जो मौत का तुझको…

Read more

Ahankaar (Egotism)

मैख़ाने के पैमाने में, आज सभी को मापूँगा मैं, कौन सही है कौन ग़लत है, इसका निर्णय करूँगा मैं।इक चला था पीकर मै, उसने की फिर मैं की बात, मैख़ाने की भीड़ ने की फ़िर, थोड़ी थोड़ी मैं की बात।सबको लगता सही हूँ मैं, सबको चढ़ता नहीं हूँ मैं मै को पीकर अच्छे अच्छे, बोलेंगे बस मैं…

Read more

Dastak (Knock)

ना सीखी थी कोई भाषा तुम्हारे शहर की मैंने  ना पहचान थी तुम्हारे गलियों की मुझे कोई  फिर भी, दिल को तुम्हारे दस्तक मैंने आकर दे दिया। Na Sikhi Thi Koi Bhasha Tumhare Shaher Ki Maine Na Pahchaan Thi Tumhare Galiyon Ki Mujhe Koi Phir Bhi Dil Ko Tumhare Dastak Maine Aakar De Diya. Neither…

Read more

Dhun (Tune)

करते नहीं हैं आजकल मेरा ज़िक्र ज़्यादा शायद गुनगुना रहें हैं, आपकोई और ही धुन को।  Karte Nahin Hain Aajkal Mera Zikr Ziyaada  Shayad Gunguna Rahe Hain, Aap Koi Aur Hi Dhun Ko You don’t mention me much these daysLeading me to believe, maybeYou are humming a different tune these days.

Read more

Prem (Love)

ना कृष्ण रहे, ना राधा अब ना मीरा की, वो गाथा सबकैसी व्यस्त सी दुनिया दिखती है अमर प्रेम की बातें, अब तो बेईमानी सी लगती है। Na Krishn Rahe Na Radha Ab Na Meera Ki Wo Gatha SabKaisi Wyast Si Duniya Dikhti Hai Amar Prem Ki Baaten Ab To Baimaani Si Lagti Hain Neither Lord Krishna…

Read more